वर्क उड़ने लगे

वर्क उड़ने लगेकिताब ज़िंदगी की खोली ही थीकि वर्क उसके उड़ने लगेछा गई बाहर कुछ ऐसीकी फिर हम सभलने  लगेखट्टे मीठे पलों कीयादें उभर रहीं थीबीते पलों में जैसे बहकने लगेथा हर नज़ारा चलचित्र हो जैसेकभी हम डूबने कभी उभरने लगेटकरा के ख़ामोशियों से कभीमायूसीयों में घिरने लगेयूँ भी हुआ कभीमीठी यादों में खोहम पिघलने लगेजीवन तो है इक कहानी की  तरहजाने कियूँ शब्द आज मचलने लगेकई बहारें ख़ुशियों से  भर गयीं दामनकुछ उड्डा ले गयीं चैन  मन   काठिट्टकते  हुए क़दमों से चले जा रहे थेकुछ आयी  बन के आँधीऔर उड्डा गयीं होश दिल कासोचती हूँ बहुतवजह समझ पाती नहींक्या २ घट्ट गयाना रहा ज़ोर तन  कापहेली सी लगती है ज़िंदगी आजसमझ नहीं आता  शोर मन कावर्क दर वर्क बदल जाते हैं चेहरेकुछ छोड़ जाते हैं मीठी यादेंकुछ ले जाते हैं चैन दिल काहर चेहरे के पीछेछुपी है कोई कहानीबदलते रहते  हैं किरदारपर रह जाती  है निशानी        

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

10 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 25/04/2017
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 25/04/2017
  2. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 25/04/2017
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 25/04/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 25/04/2017
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 25/04/2017
  4. C.M. Sharma babucm 25/04/2017
    • kiran kapur gulati kiran kapur gulati 25/04/2017
  5. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 25/04/2017

Leave a Reply