दबा ली वो ख्वाइशें भुला दिया अरमानों को

दबा ली वो ख्वाइशें भुला दिया अरमानों कोभायी नही थी जो मेरे अपने ही नादानों कोबदल दिए वो मार्ग सारे जो जाते थे सब तुम तकअँधा किया अपने आप को बंद किया फिर कानों कोउपहार मिला था जो मुझको उस ज़िन्दगी ने भी ठुकरा दियाकोई भी रस , आनंद न था फिर जगह मिली सिर्फ तानों कोरूह झुलसती गयी जिस्म थरथराता रहाकैसे सहन करता ये तब रुख लिया मयखानों कोतू दूर हुई तू बिछुड़ गयी पर एक नफ़ा मैंने पायी हैशायर का काम दिलाया है आभार है उन मेहरबानों कोकवि – मनुराज वार्ष्णेय

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

7 Comments

  1. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 22/04/2017
  2. C.M. Sharma babucm 23/04/2017
  3. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 24/04/2017
  4. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 24/04/2017
  5. Madhu tiwari Madhu tiwari 25/04/2017

Leave a Reply