न चहकते रहे न महकते रहे हैं हम

न चहकते रहे न महकते रहे हैं हमतलाश में तेरी भटकते रहे हैं हम। न किनारा अपना न किश्ती रही अपनीतूफाँ से यूँ ही उलझते रहे हैं हम। खुली जिल्द की सी किताब रही जिन्दगीखुले पन्नों तरह बिखरते रहे हैं हम। पूछा सच्चे दिल से तो दिल ने कहासुलझते सुलझते उलझते रहे हैं हम। ख्याल में होती रही हर साँस की हारशुष्क पत्तों तरह बिखरते रहे हैं हम। कभी तो आयेंगे वो मेरी कब्र परयही सोच के बस मचलतेे रहे हैं हम।——- भूपेन्द्र कुमार दवे          00000

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

8 Comments

  1. Writer Satyam Srivastava Writer Satyam Srivastava 14/04/2017
  2. kiran kapur gulati kiran kapur gulati 14/04/2017
  3. Madhu tiwari Madhu tiwari 15/04/2017
  4. Anjali yadav 15/04/2017
  5. ANU MAHESHWARI ANU MAHESHWARI 15/04/2017
  6. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 15/04/2017
  7. Kajalsoni 16/04/2017

Leave a Reply