दिल में बसे हो तुम – सर्वजीत सिंह

दिल में बसे हो तुम

दिल में बसे हो तुम हम तुम्हें कभी भुला ही नहीं पातेमेरे दिल में रह कर भी तुम हर पल हो मुझे तड़पाते

तुम्हारा हसीं चेहरा नज़रों से कभी ओझल होता ही नहींफिर भी बार बार सपनों में आकर तुम मुझे क्यों सताते

हमनें तो सरेआम मोहब्बत का इज़हार कर ही दिया हैतुम आँखों से तो इकरार करते हो पर लब से नहीं बताते

प्यार का है मौसम अपने अरमान दिल में ना दबा कर रखोजो बात दिलों को जोड़ दे उस बात को दिल में नहीं छुपाते

मोहब्बत की है तो ये दुनिया को बता दो कहता है सर्वजीतप्यार करने वाले ना दुनिया से डरते हैं ना किसी से घबराते

[email protected]

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

18 Comments

  1. C.M. Sharma 27/09/2017
  2. sarvajit singh 27/09/2017
  3. Bindeshwar Prasad sharma 27/09/2017
    • sarvajit singh 27/09/2017
  4. Bindeshwar Prasad sharma 27/09/2017
    • sarvajit singh 27/09/2017
  5. Shishir "Madhukar" 27/09/2017
    • sarvajit singh 27/09/2017
    • sarvajit singh 27/09/2017
  6. ANU MAHESHWARI 27/09/2017
  7. sarvajit singh 27/09/2017
  8. dknivatiya 27/09/2017
    • sarvajit singh 28/09/2017
  9. kiran kapur gulati 27/09/2017
  10. sarvajit singh 28/09/2017
  11. Madhu tiwari 01/10/2017
    • sarvajit singh 06/10/2017

Leave a Reply to Bindeshwar Prasad sharma Cancel reply