तुम जीत गई, मैं हार गया

तुम जीत गई, मैं हार गया        हे मृत्यु !तुम जीत गई, मैं हार गया।। मैंने  तो  अपने  जीवन मेंअन्तः की घबराहट सुन लीसाँसों के  कोलाहल में  भीतेरी  मैंने  आहट  सुन ली तुम आयी, मेरा तो संसार गयाहे मृत्यु !तुम  जीत  गई,  मैं हार गया।। मीठे  सपने   मैंने  देखेगमगीन  नजारे भी  देखेजीवन की अंधी आँखों सेहर क्षण परिवर्तन ही देखे मिला प्रकाश न अंधकार गयाहे मृत्यु !तुम जीत  गई,  मैं हार गया।। जो होना था,  सो होना थाक्या सोच करूँ  सोते जगतेठोकर खाकर  गिरते गिरतेसम्हल सका न चलते चलते बैसाखी  का भी आधार गयाहे मृत्यु !तुम जीत गई, मैं हार गया।। मैंने  तो चाहा था  लेकिनमन चाही मौत नहीं मिलतीआँखों के आँसू-सा बनकरपलभर में मौत नहीं बहती  हर मानव बस लाचार गयाहे मृत्यु !तुम जीत गई, मैं हार गया।। है भाग्य  तूलिका  छितरी-सीरखे ज्ञान  न विविध रंगों काभरती है  पर  चित्र  अधूरारखकर ध्यान क्लिष्ट रंगों का इससे  सारा  श्रंगार  गयाहे मृत्यु !तुम जीत गई, मैं हार गया।। हर पल मरणतुल्य था फिर भीजीवित  कर पाया  मैं  आशापर  तू  मेरे  ही  काँधों  परलाद  गया  अर्थी  का  साया धैर्य  जुटाना  बेकार  गयाहे मृत्यु !तुम जीत गई, मैं हार गया।। मैंने तो तन, मन, धन सब मेंमिथ्या का  आभास  किया थाफिर भी  कुछ था  मेरे भीतरजिसका मैंने  रास  किया था वही अहं अब निस्सार गयाहे मृत्यु !तुम जीत गई,  मैं हार गया ।। …. भूपेन्द्र कुमार दवे00000 

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

7 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 28/03/2017
  2. Guru dev singh Guru dev singh 28/03/2017
  3. Kajalsoni 29/03/2017
  4. C.M. Sharma babucm 29/03/2017
  5. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 29/03/2017
  6. davendra87 davendra87 29/03/2017
  7. vijaykr811 vijaykr811 29/03/2017

Leave a Reply