गुब्बारों का लगा है मेला

गुब्बारों का लगा है मेला।एक रुपए में ले लो जैसा।लाल,गुलाबी,नीला,पीला।पैसे लेकर दौड़ी शीला।माँग लिया गुब्बारा नीला।इधर से डोला- उधर से डोला।श्यामू,चिंटू,सीता,लीला।खेल सभी ने मिलकर खेला।चीख उठी तब उधर से शीला।मेरा छूट गया गुब्बारा नीला।श्यामू डोर पकड़ जब डोला।उधर से डोला-इधर से डोला।खेल गुब्बारों से ही था खेला।गुब्बारे वाले का नाम छबीला।आठ रंग का कुरता ढ़ीला।गुब्बारे वाला तब उधर से बोला।गुब्बारों का भेद जब खोला।टूट डोर जब जायेगी शीला।हाथ लगे न कुछ फिर सीता।तुमने इसे दबाया लीला।खेल रुक चले सभी का।गुब्बारों का खेल ही ऐसा।देखो लगा हुआ है मेला।               सर्वेश कुमार मारुत

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

3 Comments

  1. Madhu tiwari Madhu tiwari 20/02/2017
  2. C.M. Sharma babucm 21/02/2017
  3. डी. के. निवातिया डी. के. निवातिया 21/02/2017

Leave a Reply