मेरा इज़हार

क्या मै इज़हार ऐ मोहब्ब्त करूखुद ही बिखरी हुई हुक्या तेरे दिल मै जगह बनाऊखुद ही टूटी हुई हूसारी तारीफे मोहब्ब्त की हुईपर केसे मै सबको बतलाऊबस एक अन्धेरा सा मुकाम हैसब उस मंजर से हैरान हैएक दर्दनाक जखम ने घर कर रखा हैयह शिकवा अब नासूर बन गया हैयाद है तो अब सिर्फ चेहरेवो रोने की आवाज़े सांसे रोकना चाऊपर फिर ख्याल आता है केसे एक पल काफी थाइस हसीं सफ़र को अंजाम देने के लियऔर सब कहते है मै इजहार करूजब सब खत्म हो चूका हैमै केसे एक नई शुरुआत करूअब कोई खवाइश नहीं इश्क कीकेसे मै फिर तुजसे प्य़ार करूमै डूब चुकी हु गहरइयो मेकेसे अब इस समंदर को पार करू मैक्या मै इज़हार ऐ मोहब्बत करू।।।।।

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

14 Comments

  1. Shishir "Madhukar" 08/02/2017
    • Shabnam 08/02/2017
  2. babucm 08/02/2017
    • Shabnam 08/02/2017
    • Shabnam 08/02/2017
  3. mani 08/02/2017
    • Shabnam 08/02/2017
  4. डी. के. निवातिया 08/02/2017
    • Shabnam 08/02/2017
  5. ayush 09/02/2017
    • Shabnam 11/02/2017
  6. Shakila Dayer 09/02/2017
    • Shabnam 11/02/2017

Leave a Reply