“अरूणाभा-एक बेटी के प्रति पिता का हृदय”

वह सुन्दर सी,कोमल
हाथों में जब मेरे आयी
पुलकित हुआ हृदय मेरा
जब देखा चेहरे पर लालिमा छायी ।

प्यारा सा सुस्मित चेहरा
लग रहा हो जैसे चन्द्रानन
उत्ताल हुईं हृदय की लहरें
जब देखे उसके कोमल नयन ।

बज रहीं बधाइयाँ ढेरों
घर-उपवन में खुशहाली छायी
बाबुल सबको कहते-फिरते
मेरे आँगन रानी बिटिया आयी ।

प्रफुल्लित हो उठा हृदय मेरा
जब उसके मुख से निकला पहला शब्द
लगा जैसे कि पुष्पों ने पंखुड़ि-पट खोले
कर गया वो सबको नि:शब्द ।

तब विचार मन मस्तिष्क में कौंध गया
क्यों बेटी का जन्म नहीं भाता
इस दिव्य-रत्न अवतारण का
क्यों जग में सम्मान नहीं होता ?

क्या जग को मिथ्या समझँ !
या समझूँ उस सच्चाई को
दिया अनुपम वरदान विधाता ने
क्यों न स्नेह करूँ अरूणाभा को ?

कम नहीं हैं बेटियाँ किसी से
चाहों तो इतिहास के पन्नों को पलट देखो
गार्गी,अपाला और रानी लक्ष्मीबाई
जग में जिसने अपनी पहचान बनाई ।

आधुनिकता की बात करें तो
बेटियों ने परचम लहराया
डॉक्टर, इंजीनियर और रेसलर बनकर
देश का सम्मान बढ़ाया ।

इसलिए निवेदन है सबसे
इस “कुसुम-कलिका” को विकसने तो दो
इसकी सुगंधित अरूण-कान्ति को
सर्वत्र विखरने तो दो ।।

(अरूणाभा-लाल कान्ति वाली)

– आनन्द कुमार
हरदोई (उत्तर प्रदेश)

11 Comments

  1. Shishir "Madhukar" 22/01/2017
    • ANAND KUMAR 22/01/2017
  2. ANAND KUMAR 22/01/2017
  3. babucm 23/01/2017
    • ANAND KUMAR 23/01/2017
    • ANAND KUMAR 23/01/2017
    • ANAND KUMAR 23/01/2017
    • ANAND KUMAR 23/01/2017
  4. निवातियाँ डी. के. 23/01/2017
    • ANAND KUMAR 23/01/2017

Leave a Reply