अभिनंदन हो इस क्रांति का

नूतन वर्ष का हो गया आरम्भ सब कुछ लगता है नया-नयाफिजा में ऐसी शोर उठी किवातावरण बदल सा गया.गोरख धंधे में उलझे लोग खुद को असमर्थ सा पाया महामानव के उस तेवर से साम्यवाद का युग बन आया.अवैध रूप की जमा-खोरी का मूल्य शून्य सा हो गया भ्रष्टाचार और वोट के नोट सारा धन मिटटी बन गया.आर्थिक महाक्रान्ति के पल में परिणाम विराट सा हो गया नगद रहित हो गयी व्यवस्थाइक नव सा बदलाव समाया.अफरा-तफरी का रहा माहौल असमंजस पसरा चारों ओरफिर से होगा दिन पुराना विकल्प नए होंगे पुरजोर.अभिनन्दन हो इस क्रांति का आत्मभाव विकसे शुभ-ज्ञानकोटि-कोटि लोगों के श्रम सेराष्ट्र का हो बेहतर निर्माण. आप सबको नव वर्ष की शुभकामनायें

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

7 Comments

  1. Madhu tiwari 03/01/2017
  2. Shishir "Madhukar" 04/01/2017
  3. babucm 04/01/2017
  4. ANU MAHESHWARI 04/01/2017
  5. निवातियाँ डी. के. 04/01/2017
  6. mani 04/01/2017

Leave a Reply