बच्चे चाचा उन्हें बुलाते

इलाहाबाद में जन्म हुआ था थे कश्मीरी ब्राम्हण परिवार पिता मोतीलाल थे उनके स्वरुप रानी से मिला संस्कार.समय की गति के साथ-साथबने यशस्वी और गुणवान स्वाधीनता संग्राम के योद्धा कहलाए राजनीतिज्ञ महान.देश की दुर्दशा देखकर क्रांति रण में कूद पड़े थेअत्याचार अनेक सहे थे अनगिनत ही जेल गए थे.गाँधी की अनुयायी बनकर कांग्रेस के अध्यक्ष बने थेविदेश नीति के रखकर नींवलोकप्रिय बेहद हुए थे.प्रत्येक आखों से आंसू पोछूं ऐसा ही प्रण वो लिए थेविषमता का करने को अंत हर संभव प्रयत्न किये थे.आधुनिक भारत के वे निर्माताथे विश्व-शांति के अग्रदूतपंचशील सिद्धांत बनाकर बने चिर-स्मरणीय राष्ट्रपूत.प्रकृति प्रेमी भी बहुत थे जिन्दादिली थी बेशुमार बच्चों के संग खुश होते थेउनसे करते बेहद प्यार.बच्चे चाचा उन्हें बुलाते वो हंस देते थे बरबसनेहरु जी के जन्मदिन ही कहलाते हैं बाल-दिवस.

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

5 Comments

  1. Shishir "Madhukar" 13/11/2016
  2. bharti das 14/11/2016
  3. babucm 14/11/2016
  4. डॉ. विवेक 15/11/2016

Leave a Reply