मछली-मछली

मछली-मछली इधर तो आ,
आकर अपना नाम बता।

डर मत मछली आ भी जा,
और आकर के खाना खा जा।

मछली-मछली मान भी जा,
हठ मत कर और न शर्मा।

तुझको हाथ लगाऊँ मैं तो,
मुझको आये बड़ा मजा।

मछली-मछली एक बात बता,
पानी से तेरा साथ बड़ा।

और बिन पानी तेरा होगा क्या?
मैंने अब यह लिया है मान।

पानी ही तेरा जीवन दान,
क्या करूँ मैं और बखान?

बिन पानी तेरे निकले प्रान।
तू मछली पानी तेरी जान।।
          -सर्वेश कुमार मारुत

10 Comments

  1. babucm 08/11/2016
    • SARVESH KUMAR MARUT 26/06/2017
    • SARVESH KUMAR MARUT 26/06/2017
  2. mani 09/11/2016
    • SARVESH KUMAR MARUT 26/06/2017
  3. निवातियाँ डी. के. 09/11/2016
    • SARVESH KUMAR MARUT 26/06/2017
  4. MANOJ KUMAR 10/11/2016
    • SARVESH KUMAR MARUT 26/06/2017

Leave a Reply