गीत : मिटटी वाले दीप

मिट्टी वाले दीये जलानाजो  चाहो  दीवाली  होउजला-उजला पर्व मनेकही  रात  न काली होमिटटी वाले……………..जब से चला चायना वाला,कुछ की किस्मत फूट गयीविपदा आई  एक अनोखीरीत   हिन्द  की  टूट  गयी,भूल न जाना रीत हिन्द कीसबके  मुख  पर  लाली होमिटटी वाले दिये जलानाजो  चाहो   दीवाली    होभाईचारा   भूल  गए क्यों,अब अपनों  में  प्यार नहीलगे मानने गैर को अपनाये  अपना  व्यवहार  नहीरखो वतन का मान हमेशासबसे  शान   निराली   होमिटटी  वाले  दीप जलानाजो   चाहो   दिवाली    होहार फूल के और रंगोलीमन को क्यों नही भाते हैचले  लुटाने  पैसे उनपरजो  आतंक   मचाते   हैचलो नही उस पथ पे यारोलगे   देश  को   गाली  होमिटटी  वाले  दीप जलानाजो   चाहो   दीवाली    हो✍नवीन श्रोत्रिय “उत्कर्ष”    श्रोत्रिय निवास बयाना   +91 84 4008-4006

नवीन श्रोत्रिय "उत्कर्ष"

नवीन श्रोत्रिय “उत्कर्ष”

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

16 Comments

  1. Shishir "Madhukar" Shishir 29/10/2016
  2. Manjusha Manjusha 29/10/2016
  3. mani mani 29/10/2016
  4. sarvajit singh sarvajit singh 29/10/2016
  5. Kajalsoni 29/10/2016
  6. डी. के. निवातिया निवातियाँ डी. के. 29/10/2016

Leave a Reply