दिवाली कैसे मनाऊँ..?-पियुष राज

दिवाली कैसे मनाऊँ ……?उस वीर जवान की माँकह रही ईश्वर सेजब दिवाली से पहलेबुझ गया घर का दीपकतो मैं दीप कैसे जलाऊँकोख सूनी हो गई मेरीतो मैं दिवाली कैसे मनाऊँ ?बेटी कहती पापा सेतुम कहाँ चले गएकौन लायेगा अबपटाखे और दीयेअब मैं कैसेपटाखे ,फुलझड़ी जलाऊँगीपापा , बिन आपकेमैं, दिवाली कैसे मनाऊंगी ?बेटा कहता है पापा सेमैं दुश्मनो को सबक सिखाऊंगामैं अब रॉकेट नहीँपाकिस्तान को बम से उड़ाऊंगापापा बिन आपकेमैं ,दिवाली कैसे मनाऊँगा ?पति के विरोह मेंपत्नी नम आँखों से कहती हैजिन हाथो से चूड़ी बिखर गएउन हाथो से रंगोली कैसे बनाऊँबिन साजन केमैं,घर को कैसे सजाऊँजिनके बगैर एक पल भीजीना था मुश्किलमैं,उनके बिनादिवाली कैसे मनाऊँ…… ?पियुष राज ,दुधानी,दुमका ,झारखण्ड ।(Poem.No-33) 23/10/2016Mob-9771692835

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

Leave a Reply