पितृ पक्ष में श्राद्ध

क्वार-मास के कृष्ण-पक्ष में, श्राद्ध-पक्ष जब आता है।पितरों को तर्पण करके नर, परम तोष हिय पाता है।।शुचि-सावन में सभी पितर जब, मृत्यु लोक में आते हैं।।पुत्र-पौत्र से श्राद्ध ग्रहण कर, दुख हर दूर भगाते हैं।।आदित्य-रुद्र-वसु तीन यहां, श्राद्ध देव कहलाते हैं।संतुष्ट अगर वे हुए श्राद्ध से, पितर मुक्त हो जाते हैं।।श्रद्धा से यदि श्राद्ध करें हम, घर-दर शुचि हो जाते हैं।सत्कार-प्रेम के बदले हम, आशीष सुखों का पाते हैं।।माँ बाप धरा पर देव तुल्य, सदा स्नेह बरसाते हैं।एक बार जो गए जगत से, यादों में रह जाते हैं।।जीवन मात-पिता की महिमा, समझ नही जो पाता है।तव सेवा के पुण्य-कर्म से, वंचित वह रह जाता है।।जीते जी सम्मान नहीं तो, श्राद्ध एक घोटाला हैमात पिता के चरणों में ही, स्नेह-सुधा का प्याला है।वचन-कर्म और सहज-भाव से, पावन पर्व मनाना है।।विधि संयम से तर्पण करके, अपना फर्ज निभाना है।।(शिल्प- ताटंक छंद)!!!!!!सुरेन्द्र नाथ सिंह ‘कुशक्षत्रप’

Оформить и получить экспресс займ на карту без отказа на любые нужды в день обращения. Взять потребительский кредит онлайн на выгодных условиях в в банке. Получить кредит наличными по паспорту, без справок и поручителей

12 Comments

  1. Dr Chhote Lal Singh Dr C L Singh 28/09/2016
  2. Meena Bhardwaj Meena Bhardwaj 28/09/2016
    • सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 28/09/2016
  3. Dr Swati Gupta Dr Swati Gupta 28/09/2016
    • सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 28/09/2016
  4. Shishir "Madhukar" Shishir "Madhukar" 28/09/2016
    • सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 28/09/2016
  5. Markand Dave Markand Dave 28/09/2016
    • सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 28/09/2016
  6. Bindeshwar prasad sharma Bindeshwar prasad sharma 28/09/2016
    • सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 28/09/2016
  7. mani mani 28/09/2016

Leave a Reply