खुद में परिवर्तन – शिशिर मधुकर

ज़माना चाहता है हम ना किसी से अब प्रेम कर पाए
ना खुद तड़पे किसी की याद में ना औरों को तड़पाए
अगर फितरत को बदलने में कोई मुश्किल ना होती है
ज़माना खुद में परिवर्तन हमें भी तो कर के दिखलाए.

शिशिर मधुकर

17 Comments

  1. babucm 25/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 25/09/2016
  2. शीतलेश थुल 25/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 25/09/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 25/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 25/09/2016
  4. Meena Bhardwaj 25/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 25/09/2016
  5. Kajalsoni 25/09/2016
  6. ANAND KUMAR 25/09/2016
  7. Shishir "Madhukar" 25/09/2016
  8. ANAND KUMAR 25/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 25/09/2016
  9. MANOJ KUMAR 26/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 26/09/2016
  10. Shishir Madhukar 26/09/2016

Leave a Reply