धैर्य – शिशिर मधुकर

किसी के धैर्य को आजमाना सदा अच्छा तो नहीँ
कहीँ ऐसा ना हो तुम्हें जहाँ में मिले ना कोई कहीँ
रिश्ते नातों का क्या है ये तो बनते बिगड़ते रहते है
सिर्फ मुहब्बतों के एहसास जिंदा रह पाते हैं यहीं

शिशिर मधुकर

18 Comments

  1. निवातियाँ डी. के. 24/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 24/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 24/09/2016
  2. शीतलेश थुल 24/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 24/09/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 24/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 24/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 24/09/2016
  4. babucm 24/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 24/09/2016
  5. ANAND KUMAR 24/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 24/09/2016
  6. Kajalsoni 24/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 24/09/2016
  7. Meena Bhardwaj 25/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 25/09/2016

Leave a Reply