हँसाने में मज़ा – शिशिर मधुकर

देखते हैं ये ज़माना अब तुम्हें कितना चाहता हैं
अपने को दाँव पर लगाना ना सब को आता है
जिन्दगी भर हम तेरी बेरुखी को सह ना पाएंगे
हमको तो हँसने और हँसाने में ही मज़ा आता है

शिशिर मधुकर

20 Comments

    • Shishir "Madhukar" 24/09/2016
  1. निवातियाँ डी. के. 24/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 24/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 24/09/2016
  2. शीतलेश थुल 24/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 24/09/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 24/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 24/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 24/09/2016
  4. babucm 24/09/2016
  5. Shishir "Madhukar" 24/09/2016
  6. kiran kapur gulati 24/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 24/09/2016
  7. Kajalsoni 24/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 24/09/2016
  8. Meena Bhardwaj 25/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 25/09/2016

Leave a Reply