नेता

sheetnetaa

झूठे आश्वाशन दिलाकर, मांगते हो तुम वोट,
मिल जाये जब कुर्सी तुमको, भरने लगते हो तुम नोट,
देश-सेवा की शपथ खाकर, मन में रखते हो तुम खोट,
जिस थाली में खाया करते, वही करते हो तुम चोंट,
धोती कुर्ता छोड़ के, पहनने लगे हो तुम कोट,
फिर भी कहते रहते हो, हमे ही दीजियेगा वोट…

शीतलेश थुल 

18 Comments

    • शीतलेश थुल 23/09/2016
  1. निवातियाँ डी. के. 22/09/2016
    • शीतलेश थुल 23/09/2016
    • शीतलेश थुल 23/09/2016
  2. Kajalsoni 22/09/2016
    • शीतलेश थुल 23/09/2016
  3. Shishir "Madhukar" 22/09/2016
    • शीतलेश थुल 23/09/2016
  4. AKANKSHA JADON 22/09/2016
    • शीतलेश थुल 23/09/2016
  5. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 22/09/2016
    • शीतलेश थुल 23/09/2016
  6. babucm 22/09/2016
    • शीतलेश थुल 23/09/2016
  7. Markand Dave 23/09/2016
    • शीतलेश थुल 23/09/2016

Leave a Reply