संभल जाओ पड़ोसी देश…..स्वाति गुप्ता

संभल जाओ अब पडोसी देश
बहुत अनदेखा तुम्हे किया,
हमारी शराफत का तुमने,
नाजायज फायदा बहुत उठा लिया,
तुमने कभी घुसपैठी से,
हमारे देश में आतंक फैलाया,
कभी धोखे और बेईमानी से,
हमारी पीठ पर वार किया,
हैवानियत का गंदा खेल खेलकर,
तुमने इंसानियत का खून किया,
हमारे देश पर गर अब तुमने,
आँख उठाकर भी देखा,
तो तुमको न छोड़ेगें,
तुम जैसे शैतानों के हाथों,
अब और कहर न होने देंगे,
भारत का हर एक बासी,
फिर से अस्त्र उठाएगा,
तुम्हे हर एक हिंदुस्तानी में,
देशभक्त नजर आ जायेगा,
जो तुम्हारी पाप की लंका को,
फिर से आज जलायेगा,
रावण राज का अंत होगा,
विश्व में चैन और अमन छा जाएगा।।
By:Dr Swati Gupta

14 Comments

  1. निवातियाँ डी. के. 20/09/2016
  2. Dr Swati Gupta 20/09/2016
  3. Shishir "Madhukar" 20/09/2016
    • Dr Swati Gupta 21/09/2016
    • Dr Swati Gupta 21/09/2016
  4. babucm 20/09/2016
    • Dr Swati Gupta 21/09/2016
  5. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 21/09/2016
    • Dr Swati Gupta 21/09/2016
  6. शीतलेश थुल 21/09/2016
    • Dr Swati Gupta 21/09/2016
  7. Kajalsoni 21/09/2016

Leave a Reply