प्रतिशोध – शिशिर मधुकर

जब तक सेना पे हमले का प्रतिशोध ना तुम पूरा लोगे
जब तक दुश्मन के नरमुंडों की मालाओ से ना खेलोगे
तब तक जो भी खेत हो गए उनका ना सोग मनाऊँगा
याद करूँगा पल पल सबको पर गीत ना कोई गाऊंगा
मन की आग ठंडी ना हो जाए कोई अश्रु नहीँ बहाउँगा

जब देश में आईएसआई एजेंट हजार कार संग जाते हो
जब टटपूंजिए जातिवादी गुंडे पीएम को बात बनाते हो
जब दिल्ली में बैठ के छात्र भारत के टुकडे करवाते हो
मैं हाथों पे हाथ रखे हुए कोई खुशी न त्यौहार मनाऊंगा
मन की आग ठंडी ना हो जाए कोई अश्रु नहीँ बहाउँगा

शिशिर मधुकर

18 Comments

  1. निवातियाँ डी. के. 19/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 20/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 20/09/2016
  2. Bharti das 19/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 21/09/2016
  3. Dr Swati Gupta 19/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 20/09/2016
  4. babucm 19/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 20/09/2016
  5. Kajalsoni 19/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 20/09/2016
  6. Meena bhardwaj 20/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 20/09/2016
  7. Dr Chhote Lal Singh 20/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 20/09/2016
  8. शीतलेश थुल 20/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 20/09/2016

Leave a Reply