हार-3….सी.एम्. शर्मा (बब्बू)…

किसी की जीत और किसी की हार का अपना ही आनंद है….
जीतने वाला इस लिए खुश होता की उसने दूसरे को हरा दिया….
पर कोई कोई हार के भी खुश होता है…
और कोई बिना भागे ही जीत जाता है….
कितना अजीब सा है…
है ना…

कुछ रोज़ हुए एक ‘इंसान’ बच्चों की रेस देख रहा था खुश हो रहा था…
मैं भी देखने लगा…मजा आ रहा था…
पर वो कुछ ज्यादा आनंदित हो रहा था….
मैंने उस से पुछा ‘आप का बच्चा भाग रहा क्या’
बोला “नहीं”…
‘तो फिर…आप रेस लगाते होंगे…
जो पूरा आनंद ले रहे’….
“मैं कभी भागता था…फिर छोड़ दिया”….
‘क्यूँ छोड़ा’…..
“पापा ने कहा था की देखो बेटा तुम भागो ज़रूर….
पर जिस भाग-दौड़ से संतुष्टि ना हो…ग्लानि हो कैसी भी…
मत भागना”….
‘फिर’…
“बस मैंने भागना छोड़ दिया”…..
मैं मंत्रमुगध हो उसकी बातें सुन रहा था…
एक दम मुंह से निकला…
‘आप अपनी ज़िन्दगी से संतुष्ट हैं’…..
“हाँ बिलकुल”….
और उसने जब मेरी तरफ देखा…
उसकी आँखों में अजीब सी चमक थी…
वो चमक जो मैं अपनी आँखों में देखने को…
हर किसी की आँखों में देखने को लालायित था…
प्रश्न भरी मेरी आँखों को देख वो फिर बोला..
“सुख और संतुष्टि मापे जाते तो सब की सीमा तय होती…
और सब सुखी संतुष्ट होते…ये अपने अंदर है सब…
जब अंदर की भाग दौड़ ख़तम होती तो संतुष्टि मिलती”…..
अभी सुन रहा था की उसने कहा…
“फिर मिलते हैं”….
मेरी तन्द्रा भंग हो गयी…
“फिर मिलते हैं” ऐसे गूँज रहा था अंदर…
जैसे ख़ुशी….चमक…जीत उसकी आँखों की…
कह रही हो…”फिर मिलते हैं”…
क्यूँ फिर….
अभी ही क्यूँ नहीं…
क्यूँ नहीं अभी मिल जाती मुझे…
जिसकी तलाश में हर कोई भाग रहा…
आगे निकलने की होड़ में…
ताकि दूसरा उसको ना हथिया ले कहीं पहले….
पर वो ‘इंसान’ बिना भागे जीत गया रेस…
कैसे…
रह रह के वो शब्द गूँज रहे हैं…
“फिर मिलते हैं”….

\
/सी.एम्. शर्मा (बब्बू)…

18 Comments

  1. शीतलेश थुल 19/09/2016
    • babucm 19/09/2016
  2. shrija kumari 19/09/2016
    • babucm 19/09/2016
  3. Bindeshwar prasad sharma 19/09/2016
    • babucm 19/09/2016
  4. Meena bhardwaj 19/09/2016
    • babucm 19/09/2016
  5. Dr Swati Gupta 19/09/2016
    • babucm 19/09/2016
  6. Shishir "Madhukar" 19/09/2016
    • babucm 19/09/2016
  7. Kajalsoni 19/09/2016
    • babucm 19/09/2016
  8. निवातियाँ डी. के. 19/09/2016
    • babucm 19/09/2016
  9. ALKA 20/10/2016
    • babucm 20/10/2016

Leave a Reply to Bindeshwar prasad sharma Cancel reply