अनूठी सवारी

—————————————————–
मुषक की ये करते अनूठी सवारी है
भक्‍ति में हुई दिवानी दुनिया सारी है
कितने सुन्‍दर सजें आज पंडाल सारे
गणपति की लीला तो सब से न्‍यारी है
अभिषेक शर्मा अभि
—————————————————–

8b2c80f3d118cfe83dba7050a61df0ea

17 Comments

  1. शीतलेश थुल 15/09/2016
  2. mani 15/09/2016
  3. निवातियाँ डी. के. 15/09/2016
  4. Shishir "Madhukar" 15/09/2016
  5. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 15/09/2016
  6. babucm 15/09/2016
  7. RAJEEV GUPTA 16/09/2016
  8. Rajeev Gupta 16/09/2016

Leave a Reply