अरमान

sheetarmaan

तरसते है मेरे हाँथ सितारों को छूने के लिये,
कही कम ना हो जाये चमक सितारों की,
अपने मैले हाँथ छिपाये बैठा हूँ ….

.

शीतलेश थुल 

14 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 15/09/2016
    • शीतलेश थुल 15/09/2016
  2. अकिंत कुमार तिवारी 15/09/2016
    • शीतलेश थुल 15/09/2016
  3. mani 15/09/2016
    • शीतलेश थुल 15/09/2016
  4. निवातियाँ डी. के. 15/09/2016
    • शीतलेश थुल 16/09/2016
  5. Kajalsoni 15/09/2016
    • शीतलेश थुल 16/09/2016
    • शीतलेश थुल 16/09/2016
  6. babucm 15/09/2016
    • शीतलेश थुल 16/09/2016

Leave a Reply to विजय कुमार सिंह Cancel reply