उनके हो गए…सी. एम्. शर्मा (बब्बू)….

उनसे मिलते ही हम उनके हो गए…
आँखों ही आँखों में हम होश खो गए…

जादू है तिलिस्म वो क्या पता मुझे..
रोका था खुद को पर मजबूर हो गए…

किस किस को बताते की हमें क्या हुआ है …
आने का उनका सुना के होश खो गए…

आँखें उठी झुकी बस इतना है पता…
इज़हारे इकरार से हम उन के हो गए…

यह कैसी सी मुस्कान थी लबों पे हुस्न के…
बिन कुछ कहे सुने वो अपने हो गए…

“बब्बू” ख्याल उसका वो मेरा ख्याल…
ऐसे ही ख्याल में एक जान हो गए…

\

/सी. एम्. शर्मा (बब्बू)….

12 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 12/09/2016
    • babucm 12/09/2016
  2. Meena bhardwaj 12/09/2016
    • babucm 12/09/2016
  3. Shishir "Madhukar" 12/09/2016
    • babucm 12/09/2016
  4. शीतलेश थुल 12/09/2016
    • babucm 12/09/2016
  5. Kajalsoni 12/09/2016
    • babucm 12/09/2016
  6. निवातियाँ डी. के. 12/09/2016
  7. babucm 12/09/2016

Leave a Reply