प्रेम की वर्षा

*****************************************************
प्रेम की वर्षा में अमृत की है धार
यादो में अब हर पल बडता है प्‍यार
सुरत मन मे बसी फिर क्‍यो हो उदास
तड़पाता रुलाता फिर भी प्रेम है उपहार
अभिषेक शर्मा अभि
*****************************************************

13 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 09/09/2016
  2. babucm 09/09/2016
  3. Shishir "Madhukar" 09/09/2016
  4. Meena bhardwaj 09/09/2016
  5. निवातियाँ डी. के. 09/09/2016
  6. Dr Swati Gupta 10/09/2016

Leave a Reply