…खून का रिश्ता …-(विवेक बिजनोरी)

क्या मिला ज़िंदगी मे आजतक किसी को,
वो रब है सबके लिए जो दे जिंदगानी किसी को
खून का रिश्ता वो नहीं जो ऊपर वाले ने दिया है,
खून का रिश्ता वो है जो दे जीवन किसी को

मतलब की खातिर तुम जो मिलते रहे सभी को,
क्या दिया कभी तुमने मेरे यार कुछ किसी को
करो प्यार हर दिल से दो इज्जत सभी को,
फिर पूछना उस रब से क्या कहते है जन्नत इसी को

समझो जरा दर्द उसका जिसका बेटा तरसे खुशी को,
कैसे ला सकती है वो माँ अपने होठो पे हंसी को
दो खुशी उसको जो दर्द मे हो,
कहते है मेरे यारो जिंदगानी इसी को……………।

विवेक कुमार शर्मा

5 Comments

  1. निवातियाँ डी. के. 07/09/2016
    • vivekinfotrend 21/09/2016
  2. Shishir "Madhukar" 07/09/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 08/09/2016

Leave a Reply