धूप के शोले – शिशिर मधुकर

धूप के शोले जब लोगों के तन बदन जलाते हैं
घने पेड़ों के तले कितने मुसाफिर चले आते हैं
जो सिर्फ ऊँचे हुए पर कभी न कोई छाया करी
उनकी शाखों पर तो परिंदे भी ना घर बनाते है

शिशिर मधुकर

14 Comments

  1. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 04/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 07/09/2016
  2. babucm 05/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 07/09/2016
  3. Dr Swati Gupta 05/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 07/09/2016
  4. Kajalsoni 05/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 07/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 07/09/2016
  5. निवातियाँ डी. के. 05/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 07/09/2016
  6. kiran kapur gulati 10/09/2016
    • Shishir "Madhukar" 10/09/2016

Leave a Reply