ख़ता

मेरी ख़ता हैं तुझसे
ऐ मेरी जिंदगी
तू मेरा साथ देगी
या मैं जमाना छोड़ दूँ !

2 Comments

  1. निवातियाँ डी. के. 30/08/2016
  2. babucm 31/08/2016

Leave a Reply