इंतजार का अंजाम

************************************************************************************

आज उनका हमें जो पैगाम मिला है।
आँखों की तडप को विश्राम मिला है।
जल गये इश्क़ की आग मे अब तक
दिल को इंतजार का अंजाम मिला है

भिग गये हम बिन पानी की बरसात मे
उनसे हो गयी तकरार बेवजह की बात मे
रूठ जाना तो प्‍यार का ही एक खेल है
वादा करो कि मान जाओगी हँसीन रात मे
अभिषेक शर्मा अभि
************************************************************************************

ff

8 Comments

  1. निवातियाँ डी. के. 30/08/2016
  2. Shishir "Madhukar" 30/08/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 30/08/2016
  4. RAJEEV GUPTA 30/08/2016
  5. babucm 30/08/2016
  6. Dr Swati Gupta 30/08/2016

Leave a Reply