हे प्रभु! आपकी माया ना अब तक कोई समझ पाया…

हे प्रभु! आपकी माया ना अब तक कोई समझ पाया
जिस इन्सानो को आपने है बनाया,
उन्होने ही अाज,आपको बचाने का संकल्प है उठाया
ना जाने इस भ्रम मे कितनो लोगो ने, जान है गवाया
फिर भी लोगो को, ये बात समझ में ना आया
आप ही हो सत्य, बाकी सबकुछ है मोह-माया !!

6 Comments

  1. babucm 30/08/2016
  2. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 30/08/2016

Leave a Reply