ईर्ष्या – शिशिर मधुकर

जब तक स्वयं के लिए सब कुछ पाने की चाहत हैं
ईर्ष्या लाख मनाने पर भी कभी ख़त्म न हों पाएगी
खास अपनों की सफलता भी फ़िर सुख नहीँ देगी
तल्खियां दूरियां बस दिलों के बीच बढ़ती जाएँगी

शिशिर मधुकर

15 Comments

  1. शीतलेश थुल 29/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 29/08/2016
  2. babucm 29/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 29/08/2016
  3. shrija kumari 29/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 29/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 29/08/2016
  4. Meena bhardwaj 29/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 29/08/2016
  5. mani 29/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 29/08/2016
  6. निवातियाँ डी. के. 29/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 29/08/2016
  7. Kajalsoni 29/08/2016

Leave a Reply