जाँ को भी निसार – शिशिर मधुकर

मुझको बस मुहब्बत का नशा हैं तू सुन ले मेरे यार
वही मयखाना मेरा हैं जहाँ मिल जाए मुझको प्यार
मुझको देते हैं जो सम्मान श्रध्दा और वफा असली
मैं करता हूँ हरदम उन पर अपनी जाँ को भी निसार.

शिशिर मधुकर

16 Comments

  1. Bimla Dhillon 29/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 29/08/2016
  2. babucm 29/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 29/08/2016
  3. mani 29/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 29/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 29/08/2016
  4. शीतलेश थुल 29/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 29/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 29/08/2016
  5. Meena bhardwaj 29/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 29/08/2016
  6. Kajalsoni 29/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 29/08/2016

Leave a Reply