मेरी कविताएँ . … “आदिता”

मेरी कविताएँ मेरे दिल का हाल बयान करती हैं
खामोशी मे ये मेरे अलफाज़ बयान करती हैं
जिंदगी की दौड़ से जब थक हार कर बैठती हूँ
तब यही होती हैं जो मेरा साथी बनती हैं
दिल की बात जब शब्दों मे पिरो देती हूं
तब जाकर मन को तसल्ली मिलती है
मन तब प्रसन्नता से प्रफुल्लित हो जाता है
जब किसी को मेरी कविता पढ़ खुशी मिलती है।

9 Comments

  1. mani 21/08/2016
    • aadita 21/08/2016
    • aadita 21/08/2016
  2. C.m sharma(babbu) 21/08/2016
    • aadita 21/08/2016
  3. Shishir "Madhukar" 21/08/2016
  4. aadita 21/08/2016
  5. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 21/08/2016

Leave a Reply