==* अश्क बहाये मैने तुमने *==

अश्क बहाये मैने तुमने
इश्क कितना हमको सताये
चाहत कैसी हम दोनो की
क्यू तडपाये इतना रुलाये
अश्क बहाये मैने तुमने !!

सारी उमर का साथ नही ये
दर्द जुदाई दिल घबराये
चंद दिनो की कडवी सच्चाई
जिने ना दे मर भी ना पाये
अश्क बहाये मैने तुमने !!

कल तू होगी और किसी की
सपने मेरे सब तूट जाये
होगी अधुरी ये कहानी अपनी
वजुद इसका ना रह पाये
अश्क बहाये मैने तुमने !!

आज भर का साथ है अपना
आगे जुदाई की राह बुलाये
जी लुं मै भी अब मन भर के
कल क्या जाने क्या हो जाये
अश्क बहाये मैने तुमने !!
—————-//**–
शशिकांत शांडिले, नागपूर
भ्र.९९७५९९५४५०
अश्क बहाये मैने तुमने

6 Comments

  1. babucm 20/08/2016
  2. tamanna 20/08/2016
  3. mani 20/08/2016
  4. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 20/08/2016
  5. एकांत 22/08/2016

Leave a Reply