उन्नति की इच्छाएं – शिशिर मधुकर

छोटी से सफलता से देश में जो लहर दौड़ जाती हैं
वो देशवासियों की उन्नति की इच्छाए ही बताती हैं
पर कुछ गुंडे बेईमानों ने सारा समाज ऐसा तोड़ा हैं
मिलजुल कर आगे बढ़ने का अवसर ही ना छोड़ा हैं

शिशिर मधुकर

13 Comments

  1. mani 19/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 20/08/2016
  2. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 20/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 20/08/2016
  3. babucm 20/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 20/08/2016
  4. शीतलेश थुल 20/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 20/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 20/08/2016
  5. Er Anand Sagar Pandey 20/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 20/08/2016
  6. sarvajit singh 20/08/2016

Leave a Reply