छोटी बहन

मासूम सा चेहरा , इंसानियत की मूरत है,
भोली और प्यारी सी, बहुत ही खूबसूरत है,
तन उसका कोमल,और मन उसका सुन्दर है,
आँखों में प्यार झलकता है, दिल में उसके रब बसता है,
कोई और नहीं वो प्यारी सी, मेरी छोटी बहना है।
खुशियों का वो सागर है, प्यार का वो दरिया है,
छोटा हो या बड़ा हो कोई,हर इंसान के लिए
उसके दिल में प्यार ही प्यार बरसता है,
उसका हर शब्द दुआ बनकर निकलता है,
कोई और नहीं वो प्यारी सी,मेरी छोटी बहना है।
वो प्यारा सा फूल है घर-फुलवारी का,
महकता उससे घर का आँगन है,
चेहरा उसका जब मैं देखूं,मन प्रफुल्लित हो जाता है,
खुदा से वरदान के रूप में मिला मुझे अनमोल तोहफा है,
कोई और नहीं वो प्यारी सी, मेरी छोटी बहना है,
कोई और नहीं वो प्यारी सी मेरी छोटी बहना है।।
By:Dr Swati Gupta

17 Comments

  1. निवातियाँ डी. के. 16/08/2016
    • Dr Swati Gupta 17/08/2016
  2. C.m sharma(babbu) 16/08/2016
    • Dr Swati Gupta 17/08/2016
  3. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 17/08/2016
    • Dr Swati Gupta 17/08/2016
  4. Shishir "Madhukar" 17/08/2016
    • Dr Swati Gupta 17/08/2016
  5. mani 17/08/2016
    • Dr Swati Gupta 17/08/2016
    • Dr Swati Gupta 17/08/2016
  6. Kajalsoni 17/08/2016
    • Dr Swati Gupta 17/08/2016
  7. RAJEEV GUPTA 17/08/2016
    • Dr Swati Gupta 17/08/2016
  8. sarvajit singh 17/08/2016

Leave a Reply