मय का प्याला – शिशिर मधुकर

मेरी किस्मत तॆरा ये अंदाज़ भी कैसा निराला है
मैं पी नहीँ सकता हाथों में जो मय का प्याला है
किसी को क्या पता किस नशे से ये जाम भरा है
ये तो जानेगा वही जिसने इसको गले में डाला है

शिशिर मधुकर

16 Comments

  1. Dr Swati Gupta 16/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 17/08/2016
  2. निवातियाँ डी. के. 16/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 17/08/2016
  3. C.m sharma(babbu) 16/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 17/08/2016
  4. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 17/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 17/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 17/08/2016
  5. Kajalsoni 17/08/2016
  6. Shishir "Madhukar" 17/08/2016
  7. Meena bhardwaj 17/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 17/08/2016
  8. RAJEEV GUPTA 17/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 17/08/2016

Leave a Reply