वार – शिशिर मधुकर

खुली आँखे जब किसी की बंद होती हैं
मुहब्बत की बातें वहाँ फ़िर चंद होती हैं
काली जुबां से नित नए जो वार करते हैं
उनकी तकदीरें कभी नहीँ बुलंद होती हैं

शिशिर मधुकर

14 Comments

  1. Bindeshwar prasad sharma 14/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 14/08/2016
  2. Er Anand Sagar Pandey 14/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 14/08/2016
  3. Dr Swati Gupta 14/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 14/08/2016
  4. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 14/08/2016
  5. Shishir "Madhukar" 14/08/2016
  6. निवातियाँ डी. के. 14/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 14/08/2016
  7. sarvajit singh 14/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 14/08/2016
  8. Meena bhardwaj 14/08/2016
  9. Shishir "Madhukar" 14/08/2016

Leave a Reply