मेहंगी आझादी

लुत्फ उठावो आझादी का यारों दुआओं में शहीदो को याद करके।.
बडी मेहंगी मीली है हमें ये आझादी कई अपनो को कुर्बान करके।.
तरक्की मे रोडे डालरख्खे है अपनो ने ही आपस मेे भेदभाव करके।
बोहत हुआ अब न होनेदो बरबाद देश को आपस मे नाइत्तेफाकी करके।.
(आशफाक खोपेकर)

5 Comments

  1. babucm 13/08/2016
  2. mani 13/08/2016
  3. Shishir "Madhukar" 13/08/2016
  4. अभिनय शुक्ला 13/08/2016

Leave a Reply