तूफानों में रिश्ते – शिशिर मधुकर

जज्बातों को जब मुहब्बत के सहारे ना मिलते हैं
वही अशआर बनकर फ़िर कागजो पे खिलते हैं
जब कश्ती और मांझी एक जां होकर ना चलते हैं
तूफानों में रिश्ते तब बड़ी मुश्किल से सम्भलते हैं

शिशिर मधुकर

14 Comments

  1. babucm 13/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 13/08/2016
  2. sarvajit singh 13/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 13/08/2016
  3. mani 13/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 13/08/2016
  4. शीतलेश थुल 13/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 13/08/2016
  5. Savita Verma 13/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 13/08/2016
  6. Dr Swati Gupta 13/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 13/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 13/08/2016

Leave a Reply