राहे अनजान ……

1-1

जिंदगी तमाम यूँ बसर हुई अपनी धर्म
मंजिल थी पास मगर राहो से अनजान !!

!
!
—::डी के निवातिया ::—-

14 Comments

  1. mani 11/08/2016
    • निवातियाँ डी. के. 11/08/2016
  2. Shishir "Madhukar" 11/08/2016
    • निवातियाँ डी. के. 11/08/2016
  3. Dr Swati Gupta 11/08/2016
    • निवातियाँ डी. के. 11/08/2016
  4. Meena bhardwaj 11/08/2016
    • निवातियाँ डी. के. 11/08/2016
    • निवातियाँ डी. के. 11/08/2016
  5. babucm 11/08/2016
    • निवातियाँ डी. के. 11/08/2016
  6. sarvajit singh 11/08/2016
  7. Kajalsoni 11/08/2016

Leave a Reply