फकीरी

आख़लाक़ नदारत हो ऐसे इल्म से जहालत भली।. तकब्बुर लेआए ऐसी दौलत से मुफ़लिसी भली। तन्दुरस्ती सलामत रखे जो ऐसी फकीरी भली।. बुराई करे सत्यानाश हम भले तो दुनिया भली। (आशफाक खोपेकर)

2 Comments

  1. babucm 09/08/2016
  2. Shishir "Madhukar" 09/08/2016

Leave a Reply