२४. कैसे कहें क तुम बिना………. | गीत |“मनोज कुमार”

कैसे कहें क तुम बिना हम जी नही सकते
डरते है तुमसे यार तुमको खो नही सकते

हो जाऊँगा मैं पागल छोड़ जाना नही सनम
रहमत बरसाओ प्यार की हमपे ये करो करम
लड़ लेंगे दुनिया से तुमको छोड़ नही सकते
तुमसे जुदा ना पल भर भी रह नही सकते

कैसे कहें …………………………………………………नही सकते

तुम हो मेरी मंजिल तुम्ही हो जानेमन साहिल
तुम मेरे दिल की धड़कन हो साँसों के माफिक
खुशियों का खजाना तू बयाँ कर नही सकते
गुलशन जैसी खुशबू तू हम भूल नही सकते

कैसे कहें …………………………………………………नही सकते

जलता है ये चाँद भी तुमसे जब देखे तुमको
हूँ कितना में खुशनसीब दिल ने चाहा है तुमको
तुम हो मेरी तक़दीर सनम हम गवाँ नही सकते
तुम हो मेरी जागीर तुम्हें हम लुटा नही सकते

कैसे कहें …………………………………………………नही सकते

“मनोज कुमार”

8 Comments

  1. Shishir "Madhukar" 09/08/2016
    • MANOJ KUMAR 04/09/2016
  2. babucm 09/08/2016
    • MANOJ KUMAR 04/09/2016
  3. mani 09/08/2016
    • MANOJ KUMAR 04/09/2016
  4. Kajalsoni 09/08/2016
    • MANOJ KUMAR 04/09/2016

Leave a Reply