इस कदर जी…….

“मैकदों में मैकशों की भीड़ दिखना आम है..
इस कदर पी आज इन्सां की शराफत पी उठे..
मौत से जाकर लिपटना फितरत-ए-बुज्दिल रही..
इस कदर जी मौत भी तुझसे लिपटकर जी उठे..”

-सोनित

11 Comments

  1. Shishir "Madhukar" 08/08/2016
  2. निवातियाँ डी. के. 08/08/2016
  3. sarvajit singh 09/08/2016
  4. babucm 09/08/2016
  5. Meena bhardwaj 09/08/2016
  6. mani 09/08/2016
  7. Kajalsoni 09/08/2016

Leave a Reply