क्या करूँ मैं……सी.एम्. शर्मा (बब्बू) ..

बूढी अम्मा के कमरे में एक बक्सा पड़ा है…
ऊपर बड़ा सा ताला जड़ा है….
घर के लोगों की आँखों में वो कभी चमक….
कभी निराशा सी देता है….
“अजी सुनो कभी पूछा अपनी अम्मा से…
इस ‘पिटारे’ में ऐसा क्या छुपा रखा है”…
“हां पूछा बहुत बार पर कोई जवाब नहीं मिला”…..

एक सुबहो अम्मा अपने नित नेम से निवृत हो…
बक्से के पास बैठ गयी…
इतने में ही खबर कानों में पंहुच गयी…
सब की आँखें बक्से पे जम गयी…
अम्मा ने बक्सा खोला….
सबसे ऊपर एक सादा लाल सा जोड़ा पड़ा है…
शादी का लगता है…
फिर एक सूट निकला साथ में कुछ पैसे…
“अरे ये तो वही सूट और पैसे हैं अम्मा..
जो मैंने तुमको “दिए” थे जब पहली तनख्वाह मिली थी….
अभी तक रखे हैं “….
और निकले उपहार जो कभी अम्मा ने….
अपनी बहु बेटे को शादी की सालगिरह पर दिए थे…
पर उनको पसंद नहीं थे….पड़े थे…
फिर अम्मा ने हाथ में धागे उठाये…शायद २५-३०……
वो राखी के धागे थे…एक दुसरे से बंधे……
जो उस भाई के लिए थे जो उसको छोड़ गया था…
क्यूँकी उसने घर की मर्जी के बिना शादी की थी….
फिर निकला पायल का जोड़ा…जो उसने पोती को दिया था…
पर बहु-बेटे ने वापिस कर दिया था…
और….. बस…..यही कुछ उसमें भरा पड़ा था…
बाकी सारा बक्सा खाली पड़ा था…
अम्मा की जीवन में रिश्तों की तरह….

अम्मा की वीरान आँखें दीवार को देख रही थी…
जैसे सवाल हो उन आँखों में….क्या कसूर था उसका…
उसने तो बेटी..बहन..पत्नी..माँ..दादी का रिश्ता जीया….
पर उसको…
पति भी ५ साल पहले छोड़ के संसार से चला गया…
कौन सा रिश्ता उसके पास है….
फिर धीरे धीरे फिसलती पुतलियाँ स्थिर हो गयी….
बक्से का मुह खुला हुआ था…कह रहा हो जैसे….
लो अब सब खाली हो गया……

घर में शोर सा मच गया…
अजी “बुढ़िया” चली गयी….अब जल्दी से इसकी तयारी कर दो…
और ४ दिन में ही सब काम ख़तम कर दो मेरे पास टाइम नहीं है….

मेरे दिल से वो “रिश्तों के पिटारे” की तस्वीर नहीं जाती….
आँखों के आगे से “हिर्दय विहीन रिश्तों” की तस्वीर नहीं जाती….
क्या करूँ मैं……

\
/सी.एम्. शर्मा (बब्बू)

21 Comments

  1. Shishir "Madhukar" 08/08/2016
    • babucm 08/08/2016
    • babucm 08/08/2016
  2. mani 08/08/2016
    • babucm 08/08/2016
  3. Meena bhardwaj 08/08/2016
    • babucm 08/08/2016
  4. Kajalsoni 08/08/2016
    • babucm 08/08/2016
  5. sarvajit singh 08/08/2016
    • babucm 09/08/2016
  6. निवातियाँ डी. के. 08/08/2016
    • babucm 09/08/2016
      • निवातियाँ डी. के. 09/08/2016
        • babucm 10/08/2016
  7. mani 09/08/2016
    • babucm 10/08/2016
  8. mani 10/08/2016
  9. ANU MAHESHWARI 23/04/2017
    • babucm 24/04/2017

Leave a Reply