नज़रों की भाषा – शिशिर मधुकर

बिना बोले जब तुमको अपनी चाहत को जताना हैं
लबों पर ठहरे हुए अल्फाजो को आँखों में लाना हैं
नज़रों की भाषा से जब इश्क़ की शुरुआत होती हैं
ऐसी मुहब्बत की ज़माने में अलग ही बात होती हैं

शिशिर मधुकर

16 Comments

  1. अरुण कुमार तिवारी 06/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 07/08/2016
  2. RAVINDRA KUMAR RAMAN 06/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 07/08/2016
  3. ANAND KUMAR 06/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 07/08/2016
  4. C.m.sharma(babbu) 06/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 07/08/2016
  5. निवातियाँ डी. के. 06/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 07/08/2016
  6. sarvajit singh 07/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 07/08/2016
  7. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 07/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 07/08/2016
  8. Kajalsoni 07/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 07/08/2016

Leave a Reply