क्षीर सागर – शिशिर मधुकर

माँ के बाद जो नारी पुरुष को सीने से लगाती हैं
वो ही उसकी नस नस में लहू बन कर समाती हैं
माता के सीने में छुपा अथाह ममता का सागर हैं
प्रेयसी साथ में रखती सदा मुहब्बत की गागर हैं
जिन सीनों में इस दोनो भावों के भेद मिट जाएँ
वहीँ समझो श्री नारायण का प्रिय क्षीर सागर हैं

शिशिर मधुकर

19 Comments

    • Shishir "Madhukar" 05/08/2016
  1. MANOJ KUMAR 04/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 05/08/2016
  2. निवातियाँ डी. के. 04/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 05/08/2016
  3. Meena bhardwaj 04/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 05/08/2016
  4. mani 04/08/2016
    • kiran kapur gulati 04/08/2016
      • Shishir "Madhukar" 05/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 05/08/2016
  5. sarvajit singh 04/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 05/08/2016
  6. babucm 05/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 05/08/2016
      • babucm 05/08/2016
  7. Kajalsoni 05/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 05/08/2016

Leave a Reply