मुहब्बत और नफरत – शिशिर मधुकर

कोई मुहब्बत को जीता हैं कोई नफरत को जीता है
कोई मयखानों में मिलता हैं कोई आँखों से पीता है
मुहब्बत का सुरूर दुनियाँ को सदा आबाद करता है
नफरत का ज़हर इसको मगर बस बरबाद करता हैं

शिशिर मधुकर

18 Comments

  1. mani 03/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 03/08/2016
  2. Kajalsoni 03/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 03/08/2016
  3. ALKA 03/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 03/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 03/08/2016
  4. Meena bhardwaj 03/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 03/08/2016
  5. Shishir "Madhukar" 03/08/2016
  6. निवातियाँ डी. के. 03/08/2016
    • Shishir "Madhukar" 03/08/2016
  7. sarvajit singh 03/08/2016
  8. Shishir "Madhukar" 03/08/2016
  9. C.m.sharma(babbu) 04/08/2016
  10. Shishir "Madhukar" 04/08/2016

Leave a Reply