कामयाबी

————————————————————————————
पदचिह्नों पर पीढ़ियाँ चले, जग मे कुछ ऐसा काम करो
व्‍यक्‍ति हर विशेष है अन्‍दर के हुनर को खुले आम करो
भूल मत जाना अपनी मॉ को जो हर पल तुझे याद करे
अगर मिले कोई कामयाबी तो उसे अपनी मॉं के नाम करो
अभिषेक शर्मा “अभि
————————————————————————————
“” मुक्तक “”

maa1

10 Comments

  1. Shishir "Madhukar" 02/08/2016
  2. निवातियाँ डी. के. 02/08/2016
  3. mani 02/08/2016
  4. mani 02/08/2016
  5. Dr Swati Gupta 02/08/2016
  6. ALKA 02/08/2016
  7. Kajalsoni 02/08/2016
  8. sarvajit singh 02/08/2016
  9. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 03/08/2016
  10. C.m.sharma(babbu) 03/08/2016

Leave a Reply