खौफ ……….

खौफ नही मुझे अपने दुश्मन का,
उससे निपटना के गुर हमे बखूबी आते है
डर तो अपने प्रीतम प्यारो से लगता
जो प्यार के बदले अक्सर धोखा दे जाते है !!
!
!
डी. के. निवातियाँ [email protected]

20 Comments

  1. Girija 05/08/2016
    • निवातियाँ डी. के. 05/08/2016
  2. Shishir "Madhukar" 05/08/2016
    • निवातियाँ डी. के. 05/08/2016
  3. निवातियाँ डी. के. 05/08/2016
  4. शीतलेश थुल 05/08/2016
    • निवातियाँ डी. के. 05/08/2016
  5. babucm 05/08/2016
    • निवातियाँ डी. के. 05/08/2016
  6. Kajalsoni 05/08/2016
    • निवातियाँ डी. के. 05/08/2016
  7. सुरेन्द्र नाथ सिंह कुशक्षत्रप 05/08/2016
    • निवातियाँ डी. के. 05/08/2016
  8. mani 05/08/2016
    • निवातियाँ डी. के. 05/08/2016
  9. sarvajit singh 05/08/2016
    • निवातियाँ डी. के. 05/08/2016
  10. अरुण कुमार तिवारी 05/08/2016
    • निवातियाँ डी. के. 05/08/2016

Leave a Reply